(SISFS) स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना (2022) | (SISFS) Startup India Seed Fund Scheme in hindi (2022)

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना(SISFS) – क्या है, उद्देश्य क्या हैं, योग्यता, आवेदन कैसे करें, विशेषताएं, SISFS के लाभ ( Startup India Seed Fund Scheme (SISFS) ,What is it, what are the objectives, eligibility, how to apply, features, benefits of SISFS )

(SISFS) Startup India Seed Fund Scheme
Image courtesy : seedfund.startupindia.gov.in

Table of Contents

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना(SISFS) क्या है | What is Startup India Seed Fund Scheme(SISFS)

दोस्तों, भारत में स्टार्टअप पिछले छह वर्षों में उल्लेखनीय रूप से बढ़े हैं, इनमें से अधिकांश सेवा क्षेत्र से संबंधित हैं। आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट ( The Economic Survey report ) के अनुसार, भारत में 10 जनवरी, 2022 तक कुल 61,400 से अधिक स्टार्टअप को मान्यता दी गई है। 2021 के दौरान, 555 जिलों में कम से कम एक नया स्टार्टअप था।

आपको जानकर हैरानी होगी कि भारत , अमेरिका और चीन के बाद दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम बन गया है। इसके अलावा, एक रिकॉर्ड 44 भारतीय स्टार्टअप ने 2021 में यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल किया है, जिससे भारत में यूनिकॉर्न की कुल संख्या 83 हो गई है। भारत में 83 यूनिकॉर्न ( Unicorn StartUp ) हैं, जिसका कुल मूल्यांकन 277.77 बिलियन डॉलर है।

प्रारंभिक चरण में किसी भी स्टार्टअप के लिए धन या पूंजी की उपलब्धता बहुत महत्वपूर्ण है, जो या तो एक महान व्यवसाय मॉडल के लिए तेह विचार को स्केल कर सकता है या इसे पूरी तरह से नीचे ला सकता है। अब, आप विभिन्न एंजेल निवेशकों ( Angel Investors )या उद्यम पूंजी फर्मों ( Venture Capital Firms ) से धन प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन वे सभी आपके द्वारा ‘अवधारणा के प्रमाण’ (Proof Of Concept ) चरण को पार करने के बाद ही धन की पेशकश करेंगे।

इन सभी को ध्यान में रखते हुए, भारतीय सरकार ( Indian Government ) ने डीपीआईआईटी ( Department for Promotion of Industry and Internal Trade ) के साथ मिलकर 945 करोड़ रुपये के कुल बजट के साथ स्टार्टअप इंडिया सीड फंड स्कीम (एसआईएसएफएस) बनाई है।

इस योजना का उद्देश्य प्रूफ ऑफ कॉन्सेप्ट, प्रोटोटाइप डेवलपमेंट, प्रोडक्ट ट्रायल, मार्केट एंट्री और व्यावसायीकरण के लिए स्टार्टअप्स को वित्तीय सहायता प्रदान करना है। यह अगले 4 वर्षों में 300 इन्क्यूबेटरों के माध्यम से अनुमानित 3,600 उद्यमियों ( Entrepreneurs ) का समर्थन करेगा

इस योजना की घोषणा हमारे माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 16 जनवरी 2021 को की थी। स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना 19 अप्रैल 2021 को माननीय श्री पीयूष गोयल के द्वारा शुरू की गई थी।

स्टार्टअप इंडिया योजना (SISFS) के उद्देश्य क्या हैं (2022) | objectives of Startup India Seed Fund Scheme (SISFS)

इससे पहले कि हम स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना(SISFS) के उद्देश्यों के बारे में विस्तार से चर्चा करें, आइए हम आपको भारत में स्टार्ट अप इकोसिस्टम के संबंध में कुछ महत्वपूर्ण आंकड़े देते हैं।

आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 10 जनवरी, 2022 तक कुल 61,400 से अधिक स्टार्टअप को मान्यता दी गई है। 2021 के दौरान, 555 जिलों में कम से कम एक नया स्टार्टअप था। दोस्तों एक पल के लिए जरा इस Stat के बारे में सोचिए। आप भारत की स्टार्टअप संस्कृति की घातीय वृद्धि ( Exponential Growth ) को समझेंगे।

दोस्तों, क्या आप जानते हैं कि बहुत से स्टार्टअप बहुत ही आशाजनक व्यावसायिक विचारों ( Unique and successful business ideas ) और नवीन समाधानों ( Innovative solutions ) के साथ अवधारणा के प्रमाण ( Proof of Concept ) , प्रोटोटाइप विकास ( Prototype development ) , उत्पाद परीक्षण ( product trials ), बाजार में प्रवेश ( Market entry )और व्यावसायीकरण ( Commercialization ) के लिए शुरुआती चरण में विफल हो जाते हैं। और उनके सफल न होने का कारण है – ‘प्रूफ ऑफ कॉन्सेप्ट’ के विकास के चरण में धन की अपर्याप्तता ( Lack of Funds )

इसलिए स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना(SISFS) का मुख्य उद्देश्य इन होनहार स्टार्टअप्स का समर्थन करना है जो इस योजना के लिए पात्रता मानदंडों को पूरा करते हैं (जैसा कि नीचे विवरण में बताया गया है) उन्हें वित्तीय रूप से आवश्यक धन प्रदान करके व्यवसाय को और बढ़ाने के लिए आवश्यक होगा।

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना(SISFS) योग्यता क्या है | Startup India Seed Fund Scheme (sISFS) eligibility

1 . यदि आप एक स्टार्टअप संस्थापक हैं और आप SISFS पहल का हिस्सा बनना चाहते हैं, तो सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता यह सुनिश्चित करना होगा कि आपका स्टार्टअप DPIIT (उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग, Department for Promotion of Industry and Internal Trade) द्वारा मान्यता प्राप्त है। यदि आपको डीपीआईआईटी( DPIIT ) द्वारा अपने स्टार्टअप को मान्यता दिलाने के बारे में अधिक जानकारी की आवश्यकता है, तो कृपया आधिकारिक वेबसाइट देखें।

2. आपके स्टार्टअप के पास एक अनोखा व्यावसायिक विचार होना चाहिए जिसमें भविष्य में स्केलिंग की गुंजाइश होनी चाहिए। साथ ही विचार कुछ ऐसा होना चाहिए जिसे वाणिज्यिक बाजार में किसी उत्पाद या सेवा को विकसित करने के लिए क्रियान्वित किया जा सके।

3. लक्षित होने वाली समस्या को हल करने के लिए आपका स्टार्टअप अपने मुख्य उत्पाद या सेवा में, या समग्र व्यवसाय मॉडल में प्रौद्योगिकी ( Technology ) का उपयोग करना जरूरी है।

4. स्टार्टअप जो सामाजिक प्रभाव, अपशिष्ट प्रबंधन, जल प्रबंधन, वित्तीय समावेशन, शिक्षा, कृषि, खाद्य प्रसंस्करण, जैव प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य देखभाल, ऊर्जा, गतिशीलता, रक्षा, अंतरिक्ष, रेलवे, तेल और गैस जैसे क्षेत्रों में समस्याओं के समाधान पर काम कर रहे हैं , उन्हें वरीयता ( Preference ) दी जाएगी।

5. आवेदन के समय, आपके स्टार्टअप को किसी अन्य केंद्र या राज्य सरकार की योजना के तहत 10 लाख रुपये से अधिक की मौद्रिक सहायता प्राप्त नहीं होनी चाहिए।

6. कंपनी अधिनियम, 2013 और सेबी (आईसीडीआर) विनियम, 2018 ( Companies Act, 2013 and SEBI (ICDR) Regulations, 2018 )के अनुसार, योजना के लिए इनक्यूबेटर में आवेदन के समय स्टार्टअप में भारतीय प्रमोटरों की हिस्सेदारी कम से कम 51% होनी चाहिए।

स्टार्टअप के लिए DPIIT की मान्यता कैसे प्राप्त करें | Startup Recognition under DPIIT ( Department for Promotion of Industry and Internal Trade )

1. आपका स्टार्टअप एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के रूप में शामिल होना चाहिए या एक साझेदारी फर्म या एक सीमित देयता भागीदारी के रूप में पंजीकृत होना चाहिए।
2. पिछले किसी भी वित्तीय वर्ष में आपके स्टार्टअप का कुल कारोबार INR 100 करोड़ से कम होना चाहिए।
3. एक इकाई को उसके निगमन की तारीख से 10 साल तक स्टार्टअप के रूप में माना जाएगा।
4. आपका स्टार्टअप मौजूदा उत्पादों, सेवाओं और प्रक्रियाओं के नवाचार/सुधार की दिशा में काम कर रहा हो और उसमें रोजगार पैदा करने/धन पैदा करने की क्षमता होनी चाहिए।

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना(SISFS) के लिए आवेदन कैसे करें (2022) | (2022) How to register and apply for Startup India Seed Fund Scheme (sISFS)

1 . पहला कदम SISFS की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
2. आपके सामने निचे का पेज खुलेगा।

3.Apply Now‘ पर क्लिक करें।
4. नीचे का पेज खुलेगा। ‘For StartUps‘ के अंतर्गत ‘Apply Now‘ पर क्लिक करें।

5. अपना अकाउंट बनाएं और लॉग इन ( ‘LogIn‘ ) पर क्लिक करें।

6. अब अंतिम चरण के रूप में, प्रासंगिक विवरण भरें और अपनी आवश्यकता के अनुसार आवेदन पत्र भरें।

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना(SISFS) की विशेषताएं क्या हैं | Startup India Seed Fund Scheme (SISFS) Features

1 . डीपीआईआईटी ( DPIIT, उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग, Department for Promotion of Industry and Internal Trade ) द्वारा गठित एक विशेषज्ञ सलाहकार समिति (ईएसी, Experts Advisory Committee) योजना के समग्र निष्पादन और निगरानी के लिए जिम्मेदार होगी।
2. समिति द्वारा चयनित पात्र इन्क्यूबेटरों को 5 करोड़ रुपये तक की अनुदान राशि प्रदान की जाएगी।
3. अगले 4 वर्षों में 300 इन्क्यूबेटरों के माध्यम से लगभग 3,600 उद्यमियों ( Entrepreneurs )को सहायता प्रदान की जाएगी।
4. चयनित इन्क्यूबेटरों को स्टार्टअप के प्रोटोटाइप विकास ( Prototype Development ), अवधारणा के प्रमाण( Proof of concept ), उत्पाद परीक्षण ( Product trials and testing ) के लिए 20 लाख रुपये तक का अनुदान प्रदान किया जाएगा।

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना(SISFS) के लाभ | Startup India Seed Fund Scheme Benefits

1. इस योजना के तहत सबसे बड़े लाभों में से एक टियर 2 और टियर 3 शहरों के साथ होगा, जिन्हें आमतौर पर भारत में स्टार्टअप इकोसिस्टम में ज्यादा एक्सपोजर नहीं मिलता है।
2. होनहार स्टार्टअप जिनमें विकास और मापनीयता की उच्च क्षमता है, और प्रारंभिक चरणों में धन के लिए संघर्ष कर रहे थे, इस योजना से अत्यधिक लाभान्वित होंगे।
3. यह भारत सरकार की एक बड़ी पहल है और यह आने वाली स्टार्ट अप कंपनियों को काफी प्रेरित करेगी।
4. पैन-इंडिया स्टार्टअप प्रोग्राम जिसका मतलब है कि यह प्रोग्राम पूरे भारत में लॉन्च किया गया है।
5. इनक्यूबेटर और स्टार्टअप के लिए साल भर ‘आवेदन के लिए कॉल’ ( Call for Applications )की सुविधा।

तो दोस्तों, हम आशा करते हैं कि आपको स्टार्टअप इंडिया पर यह लेख पसंद आया होगा और आपने इसे जानकारीपूर्ण पाया है। कृपया इस लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ साझा करें।

FAQ

Startup India Seed Fund Scheme ( स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना )
सरकार ने आयकर के भुगतान से पात्र स्टार्ट-अप के लिए धारा 80-आईएसी के तहत 100% कर कटौती की घोषणा की है
श्री पीयूष गोयल, माननीय कैबिनेट मंत्री, रेल, वाणिज्य और उद्योग, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री ने 19 अप्रैल 2021 को स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना का शुभारंभ किया।
10 जनवरी, 2022 तक भारत में 61,400 से अधिक स्टार्टअप को मान्यता दी गई है।

यहां और लेख पढ़ें –>

1. IPL 2022 की पूरी जानकारी

2. (PMAY-G) प्रधान मंत्री आवास योजना-ग्रामीण क्या है,आवेदन कैसे करें,पूरी जानकारी

3.  Google का इतिहास

4. (PM-SYM) प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना